Visit this group Google Groups
Subscribe to Jaigurudevworld-Mathura News
Email:

क्या आप जानते हैं
Date : 12-Nov-2009
क्या आप जानते हैं?
 संत चमत्कार का कोई महत्व नहीं देते। चमत्कारों के द्वारा परमात्मा की इच्छा व मौज में दखल देने से उसकी मौज में राजी रहना संतमत में कहीं अधिक महत्वपूर्ण समझा जाता है। संतों में इतनी अपार सामथर््य और शक्ति है जिसका अनुमान भी नहीं लगाया जा सकता। वे परमात्मा के प्यारे पुत्र हैं जिन्हें उसने अपना सबकुछ सौंप रखा है। उनसे ईश्वर, ब्रह्म, पारब्रह्म सभी डरते रहते हैं। वे चमत्कारों को बच्चों का खेल समझते हैं जैसे एक बच्चे का साबुन के पानी में बुलबुले उठाकर खेलना। लोग चमत्कारों को आदर, भय और ताज्जुब से जरूर देखते हैं पर वास्तव में उनमें कोई आत्मिक या ईश्वरीय बात नहीं है। चमत्कार मन के खेल हैं। मन जब पूरी तरह एकाग्र हो जाता है तो अद्भुत शक्तियां प्राप्त कर लेता है, अंधे को आंख दे सकता है और कंगाल को अमीर बना सकता है। वह दौड़ती हुई रेल को रोक सकता है, बारिश करा सकता है, जहां चाहे वहां पहंुच सकता है, भूत उतार सकता है और बहुत से असाधारण काम कर सकता है। जो अपने मन को जीत लेेता है वह कुदरत की ताकतों को बादशाह हो जाता है। जड़ पदार्थ और प्रकृति एक दासी की तरह उसका हुकुम मानती हैं। ऊँचे आत्मिक मण्डलों पर पहंुच जाने पर पर मनुष्य को आलौकिक सिद्धियां प्राप्त हो जाती हैं। संत अपने शिष्यों को सलाह देते हैं कि इन ताकतों को वे कभी काम में न लें।

news@jaigurudevworld.org
© 2008 Jaigurudev Ashram. All Rights Reserved.